एसबीआई के गोल्ड रीवैम्प्ड स्कीम में निवेश करें तथा घर में रखे सोने से कमाएं पैसे

0
73

भारत में पुराने समय से सोना खरिदने तथा सोने के गहने पहनने की परंपरा रही है चाहे महिलाएं हों अथवा पुरुष और महिलाएं तो खासकर सोने की खरिददारी गहनों को साथ ही साथ निवेश के तौर पर भी करती हैं ताकि भविष्य में यदि कोई आर्थिक समस्या आई तो इसका उपयोग कर सकें। हम में से ज्यादातर लोग गहनों को सुरक्षित रखने के लिये उसे बैंक लॉकर में रखते हैं जिसके लिये हमें बैंक को उसके चार्जेज  देना पड़ता है जो कि हर किसी के लिये संभव नहीं और कई बार लोगों के पास घर में अतिरिक्त सोना पड़ा होता है जिसका उपयोग भी ना के बराबर होता है अतः आज हम आपको एसबीआई के द्वारा लाई गई एक ऐसी गोल्ड स्किम के बारे में बताएंगे जिसमे आप घर में पड़े निष्क्रिय सोने को इंवेस्ट करके घर बैठे पैसे कमा सकते हैं।

एसबीआई के गोल्ड रीवैम्प्ड स्किम में निवेश करें तथा घर में रखे सोने से कमाएं पैसे
एसबीआई के गोल्ड रीवैम्प्ड स्किम में निवेश करें तथा घर में रखे सोने से कमाएं पैसे

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा हाल में ही एक रीवैम्प्ड गोल्ड स्किम की शुरुआत की गई है जिसके तहत आप अपने गोल्ड को एफडी की तौर पर निवेश करके घर बैठे उसपर लाभ कमा सकते हैं

कैसे करें निवेश

इसके लिए आप अपने पास पड़े गोल्ड कॉइन, गोल्ड बार तथा ऐसे गोल्ड ज्वैलरी जिसमें कोई मेटल अथवा स्टोन ना लगा हो, इस प्रकार के सोने को बैंक में जमा करा सकते हैं। और साथ ही आपको बैंक के कुछ जरुरी पेपर वर्क करने होंगे जैसे अपना एड्रेस प्रूफ, पहचान पत्र, कस्टमर्स एप्लिकेशन फॉर्म तथा इंवेंटरी फॉर्म भरकर अपना सोना जमा करा सकते हैं।

कौन कर सकता है निवेश

इसके तहत कोई भी भारतीय नागरिक सिंगल अथवा ज्वॉइंट अकाउंट खोल सकता है।

एचयूएफ, पार्टनरशिप फर्म, प्रोपराइटर, सेबी के अन्दर रजिस्टर्ड म्यूचुअल फंड, ट्रस्ट तथा कम्पनी कोई भी इस स्किम में इंवेस्ट कर सकता है।

निवेश के लिए गोल्ड लिमिट

इस स्किम में निवेश करने के लिये आपके पास कम से कम 30 ग्राम सोना होना अनिवार्य है अर्थात कम से कम 30 ग्राम सोना जमा करना होगा और साथ ही सोना रखना की कोई अधिकतम सीमा नहीं है आप कितना भी गोल्ड निवेश कर सकते हैं। जिसके बाद बैंक द्वारा आपके सोने के शुध्दता के आधार पर बैंक आपको आपके जमा सोने का एक प्रमाण पत्र प्रदान करता है।

इंवेस्टमेंट पीरियड

इस स्किम में तहत आप तीन कैटेगरिज में सोना डिपॉजिट कर सकते हैं

.शॉर्ट टर्म बैंक डिपॉजिट जिसमे आप 1 से 3 साल तक के लिये गोल्ड जमा कर सकते हैं।

.मीडियम टर्म गवर्मेंट डिपॉजिट इसमें आप अपना सोना 5 से 7 तक के लिये जमा कर सकते हैं। सरकार   की तरफ से बैंक ये सोना अपने पास जमा करेगा।

.लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट- इस कैटेगरी में आप 12 से 15 साल तक के लिये गोल्ड निवेश कर सकते हैं। सरकार की तरफ से बैंक ये सोना अपने पास जमा करेगा।

परिपक्वता अवधि तथा ब्याज

एसटीबीडी कैटेगरी में गोल्ड एफडी कराने पर आपको एक साल में 0.50 प्रतिशत ब्याज मिलेगा, दो साल पर 0.55 प्रतिशत तथा तीन साल की एफडी पर आपको 0.60 प्रतिशत ब्याज मिलेगा।

एमटीजीडी में ब्याज की प्राप्ति 2.25 प्रतिशत होगी और वहीं एमटीजीडी में 2.50 प्रतिशत वार्षिक की दर से ब्याज दिया जाएगा।

यदि आप चाहें तो परिपक्वता अवधि से पहले भी अपने सोने की निकासी कर सकते हैं जिसके लिये बैंक के द्वारा ब्याज दर में पेनाल्टी लगाई जा सकती है।

फायदे

इस स्कीम के तहत आप परिपक्वता अवधि के बाद अपने सोने का ब्याज के साथ ही तत्कालिक मूल्य के बराबर कैश भी ले सकते हैं और यदि आप चाहें तो इसे सोने के रुप में भी वापस ले सकते हैं जिसके लिये बैंक 0.20 प्रतिशत की दर से एडमिनिस्ट्रेटिव चार्ज वसूल कर सकता है।

साथ ही इस स्कीम में निवेश करने का एक बड़ा फायदा टैक्स में छूट के रुप में भी मिलेगा।

इतना ही नहीं इस योजना में निवेश करने का पश्चात आप एसबाआई के किसी भी शाखा से अपने सोने के मौलिक कीमत का 75 प्रतिशत तक रुपये का लोन भी प्राप्त कर सकते हैं।

साथ ही यदि परिपक्वता अवधि तक सोने के कीमतों में उछाल आया तो आप मौजूदा दरों में अपने सोने के बराबर कैश प्राप्त कर सकते हैं जो कि आपके लिये फायदेमंद साबित होगा। इसके साथ ही आप लॉकर के खर्च से भी बचेंगे तथा आपके गहनों के चोरी होने को डर भी नहीं होगा।