होम लोन लेने से पहले जानने लायक कुछ महत्वपूर्ण बातें-

0
231

होम लोन अर्थात गृह ऋण की आवश्यकता हमें घर बनाने, जमीन लेने, फ्लैट बुक कराने अथवा घर या फ्लैट के रिनोवेशन के लिए पड़ता है। होम लोन हम किसी भी सरकारी अथवा गैर-सरकारी बैंक तथा लोन प्रोवाइडर संस्थान से प्राप्त कर सकते हैं किन्तु लेन से पहले कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण बातें अवश्य जान लेनी चाहिए।

home loan hindi

  1. सबसे पहले यह ध्यान दें कि आपको आपकी प्रॉपर्टी की कुल कीमत का 80-90 प्रतिशत तक ही लोन प्रतिशत तक आपको डाउन पेमेंट करना पड़ता है अतः कोशिक करें कि आप जितला ज्यादा से ज्यादा डाउन पेमेंट कर सकें जिससे लेन का भार आप कम हो।
  2. होम लोन लिये अलग-अलग बैंकों का इंटरेस्ट रेट अलग-अलग होता है अतः किसी भी बैंक से लोन से पहले ब्याज दरों के बारे में जाँच पड़ताल अवश्य करें ताकि आप कम ब्याज दर पर होम लोन प्राप्त कर सकें।
  3. होम लोन से पहले ब्याज के प्रकर और उसके अन्तर के बारे में जान ले जैसे फिक्स्ड रेट तथा प्लोटिंग रेट होम लोन, यदि भविष्य में इंटरेस्ट रेट कम होने अथवा नीचे आने की आशा है तो ऐसे में फ्लोटिंग रेट इंटरेस्ट का चुनाव सही है किन्तु यदि आगे आने वाले समय में ब्याज दरों में वृध्दि की संभावना है तो फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट हम लोन लेना सही होगा, फिक्स्ड रेट स्थाई दरें हैं जो कि बदली नहीं जा सकती हैं।
  4. साथ ही अपना सिबिल स्कोर भी जांचें और यदि इसमें किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी हो तो उसे समय पर ठीक कर लें। सिबिल स्कोर 300 से 900 के बीच होते हैं और यह आपके बैंक अकाउंट के रखरखाव, आपके द्वारा प्रयोग किये जा रहे क्रेडिट कार्ड तथा पहले अगर आपने कोई लोन लिया हो तथा उसके इएमआई भरने में कोई देरी हो इन सब बातों पर निर्भर करता है।
  5. सामान्यतः बैंक उन्हीं लोगों को लोन देता है जिनका सिबिल स्कोर 700 से ज्यादा हो और ऐसे कस्टमर के लिये बैंक ब्याज दर भी कम रखता है तथा सिबिल स्कोर ठीक रहने पर बैंक होम लोन भी आसानी से प्रोवाइड करता है किसी प्रकार की आनाकानी नहीं करता।
  6. होम लोन लेने से पहले जरुरी सभी दस्तावाजों को ध्यान से पढ़ लें इससे जुड़े सभी पेपर वर्क बहुत ज्यादा तथा बोझिल होते हैं इस बात से घबराकर कई लोग गैर वित्तीय कंपनियों से लोन ले लेते हैं जहाँ ब्याज दर अधिक होते हैं
  7. साथ ही प्रोसेसिंग फीस, देरी शुल्क तथा बाकी शुल्कों के बारे में भी जान ले।
  8. होम लोन का ब्याज दर होम लोन की अवधि तथा अमाउंट पर निर्भर करता है।
  9. यदि पति पत्नी दोनों वर्किंग हैं तो आप जॉइंट होम लोन के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं जिससे इएमआई आप दोनों मितकर पे कर सकेगें जिससे इएमआई को बोझ किसी एक पर नहीं पड़ेगा।
  10. यदि आपको लगता है कि आपने जिस बैंक से होम लोन लिया हैं वहाँ आपसे अधिक ब्याज लिया जा रहा है तो आप आपना लोन किसी अन्य बैंक में भी ट्रांसफर करा सकते हैं।